card-25

नई दिल्ली (9 जनवरी): 2000 रुपये के एक नोट को छापने में सरकार को लगभग 39 रुपये का खर्च आता है, लेकिन छत्तीसगढ़ के शहरों में यह नोट मात्र 10 रुपये के हिसाब से मिल रहा है।

छ्त्तीस गढ़ की बाजारों में 500 व 2000 के भारतीय बच्चों के बैंक वाले नोटों की बाढ़ आ गई। ये नोट देखने में हू-ब-बू असली के जैसे हैं।

दरसअसल, इन दिनों रायपुर के स्टेशन रोड स्थित एक किराने की दुकान में 10 रुपए में दो नोट मिल रहे हैं। ये नोट नए नोटों की साइज, रंग में एक समान हैं।

रात में इन नकली नोटों की पहचान करना मुश्किल है। नकली नोट को चलाने वालों पर कड़ी कार्रवाई का प्रावधान है।

loading…


http://nationfirst.today/wp-content/uploads/2017/01/CArd-25.jpeghttp://nationfirst.today/wp-content/uploads/2017/01/CArd-25.jpegnation_firstटॉप 10देशनई दिल्ली (9 जनवरी): 2000 रुपये के एक नोट को छापने में सरकार को लगभग 39 रुपये का खर्च आता है, लेकिन छत्तीसगढ़ के शहरों में यह नोट मात्र 10 रुपये के हिसाब से मिल रहा है। छ्त्तीस गढ़ की बाजारों में 500 व 2000 के भारतीय बच्चों के बैंक...NATION FIRST TODAY
loading...