img_20170106154248

ओम पुरी का शुक्रवार सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह 66 साल के थे। उन्होंने 100 से ज्यादा हिंदी और 20 हॉलीवुड मूवी में काम किया था।

उन्हें ‘अर्ध सत्य’ और ‘आरोहण’ मूवी के किरदार के लिए बेस्ट एक्टर के नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया। 1990 में पद्मश्री भी मिला था। ओम की का बचपन तंगहाली में गुजरा था। उनको ढाबे में काम करना पड़ा। यहां तक कि चाय की दुकान में गिलास भी साफ करने पड़े।
उनके पड़ोसियों के मुताबिक, ओम गुरुवार शाम एक फिल्म की शूटिंग खत्म कर घर लौटे थे।  शुक्रवार सुबह उनके ड्राइवर ने घर का दरवाजा खटखटाया। दरवाजा न खोले जाने पर ड्राइवर ने ही स्थानीय ओशिवारा पुलिस स्टेशन से संपर्क किया।

पोस्टमॉर्टम में ओम पुरी के सिर पर मिले चोट के निशान; पत्नी से बहस भी हुई थी

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पुरी के सिर पर चोट के निशान मिले हैं। गुरुवार शाम उनकी पत्नी नंदिता से बहस भी हुई थी। बता दें कि इन दिनों वे सलमान के साथ ‘ट्यूबलाइट’ की शूटिंग में बिजी थे।
loading…


http://nationfirst.today/wp-content/uploads/2017/01/img_20170106154248-1.jpghttp://nationfirst.today/wp-content/uploads/2017/01/img_20170106154248-1.jpgnation_firstspecialदेशओम पुरी का शुक्रवार सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह 66 साल के थे। उन्होंने 100 से ज्यादा हिंदी और 20 हॉलीवुड मूवी में काम किया था। उन्हें 'अर्ध सत्य' और 'आरोहण' मूवी के किरदार के लिए बेस्ट एक्टर के नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया। 1990...NATION FIRST TODAY