1-40

हिन्दुओं और मुस्लिमों दोनों के बीच अटूट श्रद्धा का केंद्र बन गई है अजमेर शरीफ की दरगाह 

भारत देश एक पूण्यभूमि हैं, यहाँ ऐसे कई तीर्थ स्थान है जहा हर धर्म के लोग आस्था के साथ जाते है ऐसा ही एक तीर्थ स्थान है अजमेर शरीफ़ दरगाह, जिसे अजमेर दरगाह भी कहा जाता हैl लोगो की मान्यता है कि इस दरगाह में आप जो भी मन्नत मागते हो वो पूरी हो जाती हैl यह दरगाह ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती का दरगाह हैl

लेकिन आज हम आपको एक ऐसी सच्चाई के बारे में बताने जा रहे है जो अभी तक आप ने नहीं सुन्नी होगी, ये सच्चाई है अजमेर शरीफ के दरगाह की जहाँ हिन्दू लोग अपना माथा फोड़ते है वो भी ऐसे इंसान की कब्र पर जिस को इंसान कहना भी शायद गलत होगाl

जी हाँ ऐसा हम खुद नहीं बोल रहे बल्कि न्यूयार्क के एक प्रसिद्ध उर्दू अखबार “पाक एक्सप्रेस” में 14 मई 2012 को छपी एक पोस्ट में साबित हुआ हैl

इस अखबार में अजमेर शरीफ की दरगाह की वो असलियत उजागर की है जिसे जिसने भी सुना वो दुंग रह गया

ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह की असल सच्चाई 

पाक एक्सप्रेस अखबार में लिखा था कि अजमेर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर इतनी भीड़ थी कि वहाँ की कोई बैंच खाली नहीं थीl एक बैंच पर एक परिवार, जो पहनावे से हिन्दू लग रहा था, उसके साथ बुर्के में एक अधेड़ सुसभ्य महिला बैठी थीl

बहुत देर चुपचाप बैठने के बाद बुर्खे में बैठी महिला ने बगल में बैठे युवक से पूछा कि क्या आप अजमेर के रहने वाले हैँ या फिर यहाँ घूमने आये हैं…? युवक ने बताया, “जी अपने माता पिता के साथ पुष्कर में ब्रह्मा जी के मंदिर के दर्शन करने आया थाl”

महिला ने बुरा मुँह बनाते हुए फिर पूछा, “आप लोग अजमेर शरीफ की दरगाह पर नहीं गये?”
युवक ने उस महिला से प्रतिउत्तर कर दिया, “क्या आप ब्रह्मा जी के मंदिर गयी थीं?”
महिला अपने मुँह को और बुरा बनाते हुए बोली, “लाहौल विला कुव्वत, इस्लाम में बुतपरस्ती हराम है और आप पूछ रहे हैं कि ब्रह्मा के मंदिर में गयी थीl”

महिला कि बात सुनने के बाद वो हिन्दू युवक झल्लाकर बोल पड़ा कि जब आप ब्रह्मा जी के मंदिर में जाना हराम मानती हैं तो हम क्यों अजमेर शरीफ की दरगाह पर जाकर अपना माथा फोड़ेंl
महिला युवक की माँ से शिकायती लहजे में बोली, “देखिये बहन जीl आपका लड़का तो बड़ा बदतमीज हैl ऐसी मजहबी कट्टरता की वजह से ही तो हमारी कौमी एकता में फूट पड़ती हैl”

आगे पढ़ें हिन्दू महिला का वो मुह तोड़ जवाब जो शायद उस मुस्लिम महिला को पूरी ज़िन्दगी याद रहेगा…

loading…


http://nationfirst.today/wp-content/uploads/2017/01/1-40.pnghttp://nationfirst.today/wp-content/uploads/2017/01/1-40.pngnation_firstspecialदेशहिन्दुओं और मुस्लिमों दोनों के बीच अटूट श्रद्धा का केंद्र बन गई है अजमेर शरीफ की दरगाह  भारत देश एक पूण्यभूमि हैं, यहाँ ऐसे कई तीर्थ स्थान है जहा हर धर्म के लोग आस्था के साथ जाते है ऐसा ही एक तीर्थ स्थान है अजमेर शरीफ़ दरगाह, जिसे अजमेर दरगाह भी...NATION FIRST TODAY